Font Decrease Font Normal Font Increase
Normal Contrast
High Contrast

नौकरियां और रोजगार

सितम्बभर, 2009 में पिट्सबर्ग स्थि त जी-20 शिखर सम्मेरलन में नेतागण सबल, धारणीय और संतुलित संवृद्धि को बढ़ावा देने के ऐसे ढांच पर सहमत हुए जिससे गुणवत्ता-युक्त रोजगार समुत्थाान के केंद्र में रहे। ''जी-20 देशों में रोजगार प्रचुर संवृद्धि संवर्द्धन : अनुभव में इजाफा'' शीर्षक वाले अपने प्रतिवेदन में आईएलओ ने अनुमान लगाया कि विवेकाधीन राजकोषीय उत्प्रेवरक और स्वनचालित स्थिमरता प्रदायकों के कारण तकरीबन 21 मिलियन रोजगारों का सृजन जी-20 के देशों में किया गया। जैसे-जैसे वैश्वि क अर्थव्यरवस्था में स्थि रता आ रही है, वैसे-वैसे जी-20 के नेताओं ने जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों से यह पता लगाने को कहा कि क्या् अग्रिम उपाय यह सुनिश्चिित करने को जरूरी है कि नियोजन में तीव्रता से समुत्थाोन आ जाए।

जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों ने 21 अप्रैल, 2010 को वाशिंगटन में माना कि अतिरिक्ता प्रयत्नव यह सुनिश्चिरत करने को आवश्यकक हैं कि आर्थिक समुत्था2न बना रहे और भविष्यक के लिए रोजगार की प्रचुर संवृद्धि का सृजन होता रहे। आवश्यकक लक्ष्य हासिल करने के लिए मंत्रियों ने निम्नुलिखित की सिफारिश नेताओं से की : निरंतर समुत्थालन और आगामी संवृद्धि सुनिश्चिंत करने के लिए रोजगार सृजन में गति बढ़ाना; सामाजिक सुरक्षा तंत्रों को सुदृढ़ करना तथा समावेशी सक्रिय श्रम बाजार नीतियों का संवर्धन करना; नियोजन और गरीबी उपशमन को राष्ट्री य और वैश्विाक कार्यनीतियों के केंद्र में रखना; रोजगारों की गुणवत्ता सुधारना; और आगामी चुनौतियों और अवसरों के लिए कार्यबलों का गठन करना।

27 सितम्बंर, 2011 को पेरिस में जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों ने इन प्रतिबद्धताओं का पूरा-पूरा पुनर्समर्थन किया।

जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों की बैठक 17-18 मई, 2012 को गुआडालजारा में हुई जिसमें तकरीवन 30 मिलियन रोजगारों की वैश्विरक कमी के बारे में 2008 के अंतरराष्‍ट्रीय श्रम संगठन के अनुमानों की तुलना में इसके भयावह अनुमानों पर ध्यांन दिया गया। उन्हों ने गुणवत्ताठपरक रोजगार सृजित करने की नीतियों, युवा नियोजन को बढ़ावा देने की कामयाब कार्यनीतियों तथा पर्यावरण संवृद्धि से जुड़े रोजगार सृजित करने के विकल्पोंज पर चर्चा की। तथापि वैश्वि क आर्थिक समुत्थाजन मंद रहा है तथा वैश्वि्क आर्थिक संकट का एक प्रधान नकारात्मशक प्रभाव श्रमिक बाजार की दशाओं पर पड़ा है। इसके मद्देनजर वर्तमान वर्ष में रूसी सभापतित्व् के तहत रोजगार को प्राथमिक बनाने का व्याैपक रूप से स्वानगत किया गया है।

वर्तमान वर्ष (2003) में रूसी सभापतित्व् कामधंधों के सृजन, श्रम बाजार सक्रियण तथा नियोजन क्षेत्र में जी-20 नेताओं के निर्णयों के कार्यान्वकयन के परिणामों के अनुवीक्षण को ध्याजन केंद्रित करेगा। जी-20 की नियोजन कार्यसूची जी-20 नियोजन कार्यबल द्वारा आगे बढ़ाई जाएगी। रूसी सभापतित्वर श्रम तथा वित्त2 मंत्रियों को संयुक्तस बैठक आहूत करने का इरादा भी करता है।

उपयोगी संपर्क

जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों की जी-20 नेताओं से सिफारिश; जी-20 श्रम मंत्रियों की बैठक, वशिंगटन, 21 अप्रैल, 2010

जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों के निष्क र्ष 27 सितम्बनर, 2011

गुआडालाजारा, मैक्सि को, 17-18 मई, 2012 जी-20 के श्रम और नियोजन मंत्रियों के निष्क-र्ष